14 दिसम्बर 1924 पेशावर में जन्मे ‘रनबीर राज कपूर’ और हिंदी सिनेमा के ‘शो मैन’ कहे जाने वाले राज कपूर ने अपने कैरिअर की शुरुआत 17 साल की उम्र में ही किया था उन्होंने ने ‘रंजित मूवीकॉम’ और ‘बोम्बे टाकिज’ में बतौर स्पॉटब्वाय की नौकरी शुरू की थी, हालाँकि 11 साल की उम्र में वे फिल्म इंक़लाब में काम कर चुके थे! उनका पहला बड़ा ब्रेक केदार शर्मा की फिल्म ‘नील कमल’ में मिला जहाँ पहली बार उन्होंने मधुबाला के साथ काम किया जब वे 21 साल के थे, यह फ़िल्म दोनों की पहली बड़ी फिल्म थी!

राज कपूर तब 24 साल के थे जब उन्होंने आर के फ़िल्म की स्थापना की और स्टूडियो की पहली फिल्म ‘आग (1948)’ बनाकर वे भारतीय सिनेमा के सबसे नौजवान प्रोडूसर डायरेक्टर बन गए! यहाँ इन्होने पहली बार फिल्म की हीरोइन नरगिस के साथ काम किया और माना जाता है की इसी फिल्म से दोनों क़रीब आए! वे दोनों आवारा और श्री 420 जैसी हिट फिल्मे भी दी और तक़रीबन 16 फिल्मों में काम किया जिसमे 8 फिल्मे आर के फ़िल्म प्रोडक्शन की हैं! नरगिस और राज कपूर लम्बे समय तक साथ रहे हालाँकि राज कपूर की शादी दो साल पहले यानी 1946 में कृष्णा मल्होत्रा से हो गयी थी, बावज़ूद इसके दोनों 10 साल तक साथ रहे और एक समय ऐसा आया जब नरगिस ने राज कपूर से शादी की बात कर दी और केवल बात ही नहीं किया बल्कि अपनी पत्नी कृष्णा मल्होत्रा से तलाक़ लेने को भी कहा और राज कपूर के मना करने पर नर्गिस ने रिश्ता ख़तम कर लिया!

समय था 1956 और फिल्म की ‘चोरी चोरी’ जब इनदोनो के रिश्ते टूटे और उसके बाद दोनों ने कभी साथ काम नहीं किया! हालाँकि फिल्म ‘जागते रहो (1956)’ में दोनों कैमियो के तौर पर दिखे थे! इस बीच नरगिस फिल्म ‘मदर इंडिया (1958)’ की शूट कर रही थी और फिल्म के सेट पर भयानक आग लग गयी और फिल्म के हीरो सुनील दत्त ने नरगिस को आग से बचाया था और आगे जाकर दोनों एक दुसरे जीवनसाथी बनें…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *